घर में खाद बनाने का क ख ग

शहरी और ग्रामीण भारत में कचरा जलाना एक बड़ा मुद्दा है।केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों से पता चलता है कि 7 अक्टूबर से 21 नवंबर, 2019 के बीच प्रदूषण मानक उल्लंघन की 2,900 शिकायतें दर्ज की गईं। इनमें से, 966 शिकायतों में कचरा जलाने और कचरे के खुले डंपिंग के मामले शामिल थे। अफसोस की बात है कि 80 फीसदी से ज्यादा कचरा जैविक होता है, जिसे स्थानीय क्षेत्र में खाद बनाकर लैंडफिल में जाने से आसानी से बचाया जा सकता है ।

जैविक कचरे में रसोई से निकलने वाला कचरा, बचा हुआ भोजन, सब्जी और फलों के छिलके, पत्तियां, प्रयुक्त चाय के अवशेष, अंडे के छिलके और फूल आदि शामिल हैं।

खाद पोषक तत्वों से भरपूर ह्यूमस (एक भूरा काला (Brownish-Black) मोम सदृश (Waxy) कार्बनिक पदार्थ (Organic Matter))  में कार्बनिक पदार्थ को तोड़ने की प्रक्रिया है। यह सड़ने से अलग है क्योंकि सड़ने में क्षय होता है, साथ में गंध और फफूंद होता है, जबकि खाद धीमी गति से विघटित होती है – यह प्रक्रिया प्राकृतिक रूप से जंगलों में होती है, जहाँ पत्तियों की परतें धीरे-धीरे टूटकर दोमट मिट्टी का हिस्सा बन जाती हैं, जो आपको “वन गंध”देती हैं।

खाद बनाने के दौरान, कार्बनिक पदार्थ नाइट्रोजन और कार्बन में टूट जाते हैं, और जब ये दोनों संतुलित होते हैं, तो आपको खाद मिलती है। बहुत अधिक नाइट्रोजन पदार्थ को सड़ने देगा; बहुत अधिक कार्बन मिश्रण को शुष्क और निष्क्रिय बनाता है।

नाइट्रोजन हरे कचरे से आता है – सब्जी और फलों के छिलके, फूल, बचा हुआ भोजन। कार्बन भूरे रंग के कचरे से आता है – सूखे पत्ते जो पेड़ों से गिरते हैं, कटा हुआ कार्डबोर्ड, भूरे नारियल के टुकड़े (बाहर का सख्त कवर नहीं)

कंपोस्टिंग एरोबिक या एनारोबिक (अवायवीय) हो सकता है, खाद बनाने का सबसे सरल तरीके में हवा शामिल है, जो जैविक कचरे के पात्र (कंटेनर/कम्पोस्टर) में छिद्रों के माध्यम से और समय समय पर इस मिश्रण को चर्नर की सहयता से हिलने से खाद बनाने में सहायक होती है ।

घर पर खाद कैसे बनाये ?

शुरुआत के लिए, आपको एक कंटेनर – ड्रम, टेराकोटा पॉट, प्लास्टिक बाल्टी आदि … चाहिए। आप जो भी उपयोग करते हैं, बस हवा के संचलन के लिए कंटेनर पर उचित मात्रा व् दूरी पर छेद बनाते हैं।

सभी हरे कचरे को इकट्ठा करें और दिन में एक या दो बार कम्पोस्टर में डालें । यदि संभव हो, तो तेजी से खाद बनाने के लिए छिलके और अन्य कचरे को छोटे टुकड़ों में काट लें। अब, नाइट्रोजन और कार्बन के संतुलन को बनाने के लिए – भूरे कचरे यानि कॉकपिट या सूखी पतियों इत्यादि को भी कम्पोस्टर में डालें ।

हर मुट्ठी में ’हरे’ कचरे के लिए, मुट्ठी भर भूरे ’कचरे को जोड़ें। सुनिश्चित करें कि भूरे कचरे की एक परत कचरे की ऊपरी परत को कवर करती है। कंपोस्टिंग पॉट को ठीक से ढंके , ताकि छोटे जीव जंतु अंदर न जा सकें। किसी भी तरल को इकट्ठा करने के लिए एक प्लेट नीचे रखें – ये तरल मुखतय प्लास्टिक के कपोस्टर में निकलेगा जबकि टेराकोटा या मिटटी के बने कम्पोस्टर में ये नहीं निकलता क्योंकि मिटटी का पॉट  किसी भी नमी को हवा में वाष्पित कर देता है ।

जैसे ही जैविक कचरे का मिश्रण टूटना शुरू होता है, एक भूरा तरल प्राप्त होता है, जिसे लिचेट खा जाता है । यह तरल पदार्थ उर्वरक के रूप में पौधों में प्रयोग किया जाता है क्योकि इसमें पौधों के लिए बहुत अधिक पोषक तत्व होते है  (1-भाग लिचेट को  30 भाग पानी में मिला के उर्वरक के रूप में प्रयोग करें )।आप दही के एक चम्मच, पंचगव्य (जीवमृत) या गोबर के घोल को इस जैविक कचरे में मिलाकर , जीवाणुओं को पैदा कर, खाद बनाने की प्रोसेस को तेज कर  सकते हैं।

कम्पोस्टर पॉट  में हरे ’और‘ भूरे ’कचरे को तब तक मिलाते रहें, जब तक वह भर न जाए। फिर दूसरा पॉट शुरू करें। हर दो या तीन दिन में, मिश्रण में हवा के प्रवाह के लिए इसे हिलाएं। पूरे भरे पॉट को खाद बनने के लिए छोड़ दें। छह से आठ सप्ताह के बाद, जब आप बर्तन को खोलते हैं, तो आपको इससे गीली मिटटी की तरह की गंध आएगी ।आपका भूरा सोना आपके पौधों में डलने के लिए तैयार है।

इनसे बचें

कम्पोस्टर पॉट में इनको डालने से बचे – नारियल के गोले, आम के बीज और मूंगफली के गोले को सड़ने में लगभग एक साल लगता है। यदि आप इन्हें मिश्रण में शामिल करते हैं, तो वे एनारोबिक पॉकेट बनाते हैं जो गंध करना शुरू कर देंगे। डेयरी/दूध से बना कचरा चूहों को आकर्षित करता है। हड्डियों को सड़ने में लंबा समय लगता है, इसलिए इससे बचा जा सकता है। कुचल अंडे का छिलका कैल्शियम का एक अद्भुत स्रोत है और इसे सीधे रोपण मिट्टी में डाला जा सकता है, जैसा कि प्रयोग की गयी चाय और कॉफी को सीधे भी मिट्टी में मिलाया जा सकता है ।

समस्या निवारण

खाद न तो ज्यादा गीली और न ही ज्यादा सूखी होनी चाहिए , और इसमें से गीली मिटटी के जैसी गंध आणि चाहिए । यदि ये बहुत ज्यादा नम है , तो इसका मतलब है कि वहाँ बहुत अधिक नाइट्रोजन है। कुछ भूरे कचरे  जैसे कोकोपिट या सूखी पत्तियों को डालें । यदि यह सूखा दिखता है, तो हरे कचरे की एक खुराक जोड़ें। सबसे अधिक समस्या तब होती है जब खाद नम होती है और सड़े हुए कचरे की गंध देती है ।

खाद में मैगॉट्स होने लगते है । सफेद  या काले कीड़े खौफनाक दिख सकते  हैं और कई लोगों को आगे खाद बनाने से रोक देते है । लेकिन समाधान आसान है। हल्दी और मिर्च पाउडर डालें और फिर नमी को कम करने के लिए चूरा, कोकोपीट या सूखी पत्तियां डाले । यह हरे और भूरे कचरे के बीच संतुलन के बारे में है – इसका ध्यान रखे।

फल और सब्जी के छिलके से फल मक्खियां हो जाती है , अगर आपकी खाद/जैविक कचरे में नमी होती है, तो ये मक्खियाँ अंडो से व्यस्क्त हो जाती है ।ऐसी स्तिथि में सूखे पत्ते जोड़ें और सुनिश्चित करें कि कम्पोस्टर के ढक्कन को ठीक से बंद रखे ।

खराब गंध आमतौर पर तब  आती है हैं जब मिश्रण बहुत नम (गीला) होता है। लेकिन यह भी हो सकता है कम्पोस्टर पॉट में कुछ हवा के संचलन को रोक रहा हो । सुनिश्चित करें कि कम्पोस्टर पॉट में कोई प्लास्टिक, नारियल के छिलके  या आम की गुठली न हों।

छोटा सा प्रयास

खाद बनाने के लिए आपको बहुत अधिक स्थान या समय की आवश्यकता नहीं है। दिन में पाँच मिनट लगते हैं। खुद को याद दिलाना महत्वपूर्ण है कि खाद के साथ सबसे आसान काम यह है कि इसे छोड़ दें। सबसे आनंद की चीज मिटटी की गंध को महसूस करना है, और अप्प ही ये जानते है की आप स्वस्थ पौधे उगाने में योगदान कर  रहे है और इस जैविक कचरे को लैंडफिल में न भेजने में सफल हो पा रहे हैं।

लेखक : मधुकर वार्ष्णेय ( टीम – राइज फाउंडेशन)

Published by RISE Foundation

NGO Working in Waste Managament, Environmrnt Protection and Women Empowerment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: